मोगरा – Mogra Flower Information in Hindi

Mogra Flower Information in Hindi मोगरा (वानस्पतिक नाम : Jasminum sambac) एक फूल देने वाला पौधा है। जो दक्षिण एशिया तथा दक्षिण-पूर्व एशिया का देशज है। यह फिलिपिंस का राष्ट्रीय पुष्प है। इसे संस्कृत में ‘मालती’ तथा ‘मल्लिका’ कहते हैं। मोगरा एक भारतीय पुष्प है। मोगरे का लैटिन नाम जेसमिनम सेमलेक है। मोगरे का फूल बहुत सुगन्धित होता है। मोगरा के फूल से सुगन्धित फूलों की माला और गजरे तैयार किये व पहने जाते हैं।

मोगरे के फूल का रंग सफ़ेद रंग का होता हैं। स्वभाव मोगरा के फूलों की प्रकृति गर्म होती हैं। दिल्ली सहित अजमेर, जयपुर, कोटा, बीकानेर आदि में टोंक के मोगरे के फूल व मालाएँ पसंद की जाती है। मोगरा का इत्र कान के दर्द में भी प्रयोग किया जाता हैं। मोगरा कोढ़, मुँह और आँखों के रोगों में लाभ देता हैं।

Mogra Flower Information in Hindi

मोगरा – Mogra Flower Information in Hindi

गर्मियों का एक ऐसा फूल है जिसे घर में लगाने से ही हमें लगता है कि बस इसमें बहुत सारे फूल खिलें और हमारा घर महकता रहे। ये खूबसूरत पेड़ है मोगरे का पेड़ जिसपर ढेरों फूल खिलते हैं और इसकी खुशबू यकीनन बहुत अच्छी होती है। गर्मियों के मौसम में मोगरे की बहुत सारी पैदावार होती है और हो सकता है कि आपको भी घर में मोगरे का पौधा लगाना बहुत अच्छा लगता हो।

पर कई लोगों की ये समस्या होती है कि उनके मोगरे के पौधे पर फूल नहीं आते हैं। कई लोगों के मोगरे के पौधे सूख जाते हैं और कई पर पत्तियां सूखने लगती हैं और साथ ही साथ वो पीली भी हो जाती हैं। अगर आपके मोगरे के पौधे के साथ भी ऐसा हो रहा है और आप चाहते हैं कि उसमें बहुत से फूल आएं तो आपको कुछ टिप्स ध्यान रखनी होंगी।

आपका मोगरा तभी खिलेगा जब उसे अच्छी धूप मिलेगी। मोगरा सिर्फ 1-2 घंटे की धूप में उतना असर नहीं दिखाएगा जितना उसे दिखाना चाहिए। मोगरे के पौधे में फूल आएं उसलिए आपको इसे बहुत ज्यादा धूप में रखना होगा। दिन में 5-6 घंटे की धूप के बिना वो सिर्फ 1-2 कली ही देगा। जहां मोगरे को धूप मिलने लगेगी वहां पर आप खुद ही फर्क देख पाएंगे।

जैसा कि हमने आपको पहले ही बता दिया कि मोगरा अच्छे से खिले उसके लिए उसे धूप में रखना जरूरी है। लेकिन धूप में रखने के साथ-साथ ये भी जरूरी होता है कि उसे सही गमले में लगाया जाए। कई लोग अपने पास प्लास्टिक का गमला लाकर रखते हैं जो सही नहीं होता। जब किसी पौधे पर 5-6 घंटे धूप लगेगी तो प्लास्टिक से हीट जनरेट होगी। जरूरत से ज्यादा हीट मिलने से उसकी जड़ें खराब होंगी और पौधा सूखने लगेगा। इसलिए या तो मिट्टी के गमले में लगाएं या फिर सिमेंट के गमले में।

Share: 10

Leave a Comment